* आन्दोलन समाचार

माननीय मुख्यमंत्री महोदय से उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ के प्रान्तीय पदाधिकारियों की बैठक के उपरांत  हड़ताल समाप्त  करने हेतु राजस्व अनुभाग -९ से जारी पत्र   दिनांक- २१-०९-२०१६–rajswaanubhag-9-date-21-sep2016

___________________________________________________

उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ , प्रान्तीय अध्यक्ष  जी का पत्र दिनांक १९ -०९-२१०६——letterdate19sep2016

_________________________________________________________________

लेखपाल वेतन उच्चीकरण से सम्बन्धित आयुक्त एवं  सचिव का पत्र सभी जिला अधिकारी को पत्र दिनांक ०८-०९-२०१६ —lekhpalwetanuchchikaran08092016

_____________________________________________________

 

Mahamatri Patr Date 06 SEp2016–MahamntriPatr06SEP2016    PDF FILE-mahamntripatr06sep2016

महामंत्री पत्र ०३-०९-२०१६ एजेंडा –mahamantripatragenda03sep2016

_____________________________________________________

विभिन्न सरकारी कर्मचारी संघठनो द्वारा लेखपाल संघ के आन्दोलन  के समर्थन में दिया गया पत्र —VibhinnSanghthanoKasamarthan

_____________________________________________________________________

Date 30  August 2016 At Vidhan Sabha Lucknow 

साथियों आज सभी ने लखनऊ आकर जो अभूतपूर्व प्रदर्शन किया है उसके लिए आप सभी का हम जीवन भर आभारी रहेंगे।आज का कार्यक्रम लेखपाल संघ के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा।कुछ साथियों को चोटें भी लगी हमें और अध्यक्ष जी को भी चोटें आईं हैं।मुझे अपने साथीयो को घायल होने का दुख है।मित्रों हम सभी ने अपना १००% करने का प्रयास कर रहे हैं आप आंदोलन चलाते रहे सफलता जरूर मिलेगी।एक बार पुनः आप सभी को लखनऊ पहुंच कर सफल आंदोलन करने के लिए धन्यवाद।

ब्रजेश कुमार श्रीवास्तव (महामंत्री)

 

1

 

साथियों,,30 अगस्त को लखनऊ में आपकी उपस्तिथि ने यह साबित कर किया कि आप संगठन के लिए कितने कटिबद्ध हैं, आपने अपने अंदर की ऊर्जा को पहचानकर जिस तरह का प्रदर्शन किया,वह अभूतपुर्व था।। आज आप सभी नें उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ के इतिहास में वह मील के पत्थर गाड़ा है,जो शायद कभी उखड नहीं पायेगा। हमने जो अगस्त क्रांति का सपना संजोया था,आज पूर्ण होता देख सुबह मेरी आँखों में ख़ुशी के आंसू आ गए थे। जैसे जैसे दिन चढ़ रहा था,सूरज का तेज बढ़ रहा था,आपके अंदर की ऊर्जा चारो तरफ आपके इंकलाबी नारों से फैल रही थी,उस ऊर्जा से अपनी प्रान्तीय कार्यकारिणी ऊर्जा प्राप्त कर रही थी।। आपने यह साबित कर दिया कि लेखपाल संघ का इतिहास अनुशासन का रहा है आगे भी रहेगा,लेकिन जब उसूलों पर जांचा आ जाये तो शोला बन कर हर एक लेखपाल वह आग बन जाएगा,जिसमें अधिकारी और सरकार झुलस जायेंगे। हम आज अपने और आने वाले भविष्य के लिए लड़ रहे हैं। लड़ाई में 2 ही चीजें होती है।। हार या जीत, हार हम सकते नहीं क्यूंकि आप है।और दूसरों को जीतने नहीं देंगे,क्योंकि आप है।। दोनों परिस्तिथियों में हमारा एक ही लक्ष्य और एक ही संकल्प है,जीत और सिर्फ जीत।। यह धर्म का अधर्म से युद्ध है,कल जो हमारे पदाधिकरियों और साथियों पर लाठीचार्ज हुआ वह हर बार पुलिस हर संवर्ग के साथ ,तितर बितर करने के लिए करती है। कल हमारे साथ भी वही किया,किन्तु पुलिस को आपके अंदर जल रही आग का अहसास नहीं था,जब तक अहसास होता देर हो चुकी थी।। वह लोग जो हमारे रहनुमा है उन्हें इस आग की लौ शायद अपने अहम् के कारण ना पता चली हो,किन्तु कल उस आग की लपट ब्रम्हांड तक पहुच गयी थी,जिसे थोड़ा सा शांत करने के लिए प्रकृति को वर्षा का सहारा लेना पड़ा।।यह सरकार की नाकामयाबी का आज का साबूत था। साथियों सरकार हर बार नाकाम रही,और। इसमें प्रकृति,ईश्वर,अल्लाह हमारा साथ दे रहा है।।अगस्त क्रांति की शुरुआत का दिन 30 तारीख हमने पहले से तय कर रखा था,उससे पहले बाढ़ की विभीषिका आयी।। सरकार को आपको याद करना पड़ा। 30 अगस्त तय करते समय हमें नहीं मालूम था कि विधानसभा का सत्र होगा,किन्तु सत्र चल गया। यह दूसरा शुभ संकेत था।। सत्र 30 को समाप्त होना था ,2 दिन बढ़ गया।। यह सब आपके अनुकूल चल रहा है।।। कल पूर्व नियोजित तरीके के अनुसार साथियों को जिस मंशा से आपको पुनः दारुलशफा में बुलाया गया था,उसमें भी आप सफल रहे। साथियों कल हमारे बीच धरने पर हमारे कुछ नए साथी जो ट्रेनिग मे थे,नहीं बुलाये गए थे,उनकी बाजुएं फड़क रहीं थी।।उनका दिल संघ के लिए हिलोर मार रहा था,वह अपने आप को कुछ भी कम ना समझे,उनके बाजुयों की फड़कन से हमारी नशों में खून बड़ी तेजी से बह रहा था,और उतनी ही तेजी से भुजाएं फड़क रही थी।। हमारे बीच महिला लेखपाल के रूप में आयी मातृशक्ति को भी हमने धरने पर सुरक्षा के दृष्टिगत आने से रोक दिया था,किन्तु t.v.के माध्यम से उनकी नजरें,दिल,दिमाग उसी तरह से विधानसभा पर था,जैसे हम और आप सशरीर थे।। आज आप सब ने एक नया इतिहास का पन्ना लिखा है,हमे इस किताब को पूरा करना है।।किसी भी तरह के दमन का हमें पुरजोर तरीके से विरोध करेंगे।। हमारा आंदोलन अग्रिम निर्णय तक चलता रहना चाहिये,चाहे जो भी हो जाए नहीं झुकेंगे,नहीं झुकेंगे। दाँव पर सब कुछ लगा है, रुक नहीं सकते
मिट सकते हैं मगर हम झुक नहीं सकते।।।
: कल समाजवाद का नाम लेने वाली सरकार ने शांतिपूर्ण,अनुशासित लेखपालों पर जिस तरह से लाठीचार्ज करवाया है,उससे उनके प्रणेता लोहिया जी,और जनेश्वर मिश्र जी की आत्मा रो पड़ी थी,और उनके आंसू हम पर आशीर्वाद स्वरुप बरसे थे।।हृदय तो लोहिया पुत्र और धरती पुत्र मुलायम सिंह यादव जी का भी रो रहा होगा।यह समाजवाद के लिए शुभसंकेत नहीं है।

।विनोद कश्यप प्रदेश कोषाध्यक्ष उ0 प्र 0 लेखपाल संघ

 

हमारा कोई भी कार्य आवश्यक सेवा में नहीं आती है। इस समय मुख्यतः दो कार्य प्रभावित हो रहे है जिनसे जनता को कष्ट हो सकता है । वे है-बाढ राहत और आय जाति निवास वारिसान प्रमाण पत्र।ये दोनों कार्य लेखपाल सेवा नियमावली/भूलेख नियमावली/राजस्व सहिता किसी में भी लेखपाल के लिए निर्धारित नहीं है । बाढ के सम्बन्ध मे केवल सूचना देने का दायित्व हैजिससे अब सभी अधिकारी सूचित है । इससे अधिक कार्य लेखपाल प्रशासनिक दायित्वों के तौर पर करते हैं जिसे वित्त विभाग हमारा मानता नहीं। इसलिए शासन/परिषद का एस्मा सम्बन्धी आदेश अवैधानिक है ।

विनोद कश्यप प्रदेश कोषाध्यक्ष उ0 प्र 0 लेखपाल संघ

 

2

 

3

लाठीचार्ज में पैर की हड्डी फ्रैक्चर हो जाने पर हस्पताल में प्लास्टर कराते हुए खण्ड मन्त्री लखनऊ

 

11

 

aaa

 

aaaqq

 

cc

 

gg kkk

 

mmm

 

mn

 

 

mnb

nn

 

oo

tt

ww

 

 

xx

 

 

z

 

1

 

2

6

11

111

 

123

234

a

e

g

 

 

i

q

r

t

u

 

ww

y

n3

 

n4

 

n5

n7

news1

n2

Comments are closed.

%d bloggers like this: